लैप्रोस्कोपिक हिंदी ब्लॉग | Laparoscopic English Blog | المنظار العربية المدونة

मेकेल डायवर्टिकुलम के लैप्रोस्कोपिक प्रबंध
सामान्य सर्जरी लैप्रोस्कोपी / Jun 23rd, 2017 11:26 am     A+ | a-
डाक्टर आर के मिश्रा द्वारा मेकेल डायवर्टिकुलम के लैप्रोस्कोपिक प्रबंध
 
मेकेल डायवर्टिकुलम क्या है?
 
मेकेल डिवर्टिकुलम छोटी आंत के हुए एक उभड़ा को कहते है। जनसंख्या के लगभग 2% लोग इस आंत की जटिलता से ग्रस्त है। यह पुरुषों में अधिक बार पाया जाता है। लैपरोटॉमी मेकेल डायवर्टीकुलम का ठीक करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सबसे आम सर्जिकल तकनीक है। इस समस्या का निदान और इलाज करने की सबसे आधुनिक तकनीक लॅपयरॉस्कपी है|
 
मेकेल डायवर्टिकुलम के लक्षण क्या हैं?
 
मेकेल डायवर्टिकुलम का निदान बहुत ही बुनियादी प्रक्रिया है। यह मौजूद है या नही यह जानने के लिए कोई पूर्वसक्रिय तरीका नहीं है| आमतौर पर, चिकित्सक लक्षणों पर भरोसा करते हैं, इन में शामिल हैं : एनीमिया, पेट का दर्द, डिवर्टिकुलिटिस और आंतों की रुकावट।
 
उपा दिए गये सभी उपर्युक्त लक्षणों मे एनीमिया और आंतों की बाधाएं सबसे खराब हैं।
 
एक डिवर्टिक्यूलम निम्नलिखित कारणों से आंतों के अवरोध का कारण बनता है:
 
1. डायवर्टीकुलम के रेशेदार बैंड के चारों ओर एक छोटा आंत ज्वालास का गठन होता है।
2. स्टेनोसिस और ल्यूमनल फाइब्रोसिस जो क्रोनिक डायवर्टीकुलिटिस के कारण होते हैं।
 
मेकेल डायवर्टिकुलम के प्रबंधन के पारंपरिक तरीकों में आम तौर पर डायवर्टिकुलम का निदान और प्रबंधन करने के लिए एक लैपरोटमी किया जाता है। सर्जरी के तीन मुख्य तरीके हैं सरल डाईवरटिक्यूलम: इस प्रक्रिया में, डायवर्टिकुलम का प्रबंधन करने और आंत सामान्य रखने के लिए सरल चीरा किया जाता है।
 
विषाक्त का विच्छेद: इस प्रक्रिया में सर्जिकल प्रक्रिया केवल डिवेंच्युक्लॉक्टिमी तक सीमित नहीं होती है, बल्कि यह आसपास के ईलियम के चीरों तक बढ़ा दी जाती है; यह तुलनात्मक रूप से आम विधि है| 
सेगैनल रसीक्शन: एनास्टोमोसिस (शल्य चिकित्सा द्वारा आंतों और रक्त वाहिकाओं के बीच संबंध बनाया जाता है) का उपयोग इलियल रिसेक्शन (लक्षित भाग के शल्य चिकित्सा हटाने) के लिए किया जाता है।
 
मेकेल डायवर्टिकुलम का प्रबंधन करने के लिए लैप्रोस्कोपिक तकनीक का उपयोग
 
डायपरिकुलम का प्रबंधन करने की सबसे आधुनिक विधि लैप्रोस्कोपिक तकनीक का उपयोग है। इस तकनीक में बहुत सारे चोटे चीरों को शरीर पर बना दिया जाता है और लक्षित हिस्से में एक पाइप डाला जाता है। पाइप इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरणों और एक मिनी कैमरा को पाहूंचाता है। इस तरह, सबसे पहले निदान प्रक्रिया प्रभावित क्षेत्र को देखने के बाद किया जाता है, और फिर इसे उसी तकनीक का उपयोग करके प्रबंधित किया जाता है| नवीनतम शोध से पता चलता है कि मेकेल डिवर्टिकुलम से छुटकारा पाना अधिक प्रभावी साबित होता है यदि यह प्रक्रिया लैपरोस्कोपी से किया जाए|
 
 
विच्छेदित चीरा अतीत का एक हिस्सा बन गया है, और इससे अधिक जटिलताएं और जोखिम होता है। आज कल बैरिएट्रिक वाले सभी जटिल सर्जरी लैप्रोस्कोपी के माध्यम से की जा रही हैं क्योंकि यह बहुत ही सटीक प्रक्रिया है|
 
डायवर्टिकुलम के लैप्रोस्कोपिक प्रबंधन की प्रभावशीलता
 
साइड इफेक्ट्स : कोई गंभीर जटिलताएं नहीं होती हैं| लापरोकॉपी के माध्यम से इलाज करने वाले रोगियों के मामले में संकेत मिलता है कि कोई मुख्य लाइन लीक नहीं थी जो पाचन तंत्र के सर्जरी में आम हैं|
 
एक रिपोर्ट के अनुसार आमतौर पर मरीज़ सर्जरी के 4वें दिन से 7वें दिन तक ठीक हो जाते हैं| वे दो साल या चार साल के बाद ज्यादातर अनुवर्ती कार्रवाई के लिए आते हैं| इन दोनों श्रेणियों में पोस्ट सर्जिकल जटिलताओं के कोई भी लक्षण नहीं दिखाए गए थे। रीसर्च के अनुसार, अधिकांश रोगियों को डिवर्टिकुलम में हेटरोपिक गैस्ट्रिक श्लेष्मिका था, जिसके कारण परेशानी पैदा हुई थी।
 
लैप्रोस्कोपिक तकनीक की दक्षता
 
वर्तमान रिसर्च से संकेत मिलता है कि लैप्रोस्कोपिक तकनीक से डायवर्टीकुलम का इलाज़ सबसे प्रभावशाली है| आमतौर पर, खुले पच्चर रेशे का अभ्यास किया जाता है, जो कि परंपरागत तरीका है। डायवर्टीकुलम जटिलताओं के साथ समस्या यह है कि उन्हें निदान के लिए भी ऑपरेटिव विधि की आवश्यकता है; इसलिए, ज्यादातर समय सर्जरी एक अनिवार्य विकल्प है।
 
 
वेज रिसेशन सर्जरी करने के लिया आवश्यक नही है| स्पर्शरेखीय रिसेक्शन का उपयोग संभव है, जैसे कि डिवर्टिकुलम के लैप्रोस्कोपिक प्रबंधन में। तथ्य यह है कि लैप्रोस्कोपी के बहुत कम साइड इफेक्ट्स हैं जो यह सर्जरी की अधिक इष्टतम विधि बनाती हैं|
2 टिप्पणियाँ
मोनिका
#1
May 23rd, 2020 3:01 am
यह कमाल का लेख है, यह वास्तव में बहुत मददगार है, जिसे समझना आसान है, मेकेल डायवर्टिकुलम के लैप्रोस्कोपिक प्रबंध क़े इस टास्क विश्लेषण को साझा करने के लिए धन्यवाद।
कविता
#2
May 29th, 2020 5:43 am
शैक्षिक लेख प्रदान करने के लिए धन्यवाद। डॉ मिश्रा ने मेकेल डायवर्टिकुलम के लक्षण और मेकेल डायवर्टिकुलम का प्रबंधन करने के लिए लैप्रोस्कोपिक तकनीक का उपयोग के बारे में बहुत आसानी से वर्णन किया हैं।
एक टिप्पणी छोड़ें
CAPTCHA Image
Play CAPTCHA Audio
Refresh Image
* - आवश्यक फील्ड्स
Older Post घर नया पोस्ट
Top

In case of any problem in viewing Hindi Blog please contact | RSS

World Laparoscopy Hospital
Cyber City
Gurugram, NCR Delhi, 122002
India

All Enquiries

Tel: +91 124 2351555, +91 9811416838, +91 9811912768, +91 9999677788

Need Help? Chat with us
Click one of our representatives below
Nidhi
Hospital Representative
I'm Online
×